जेल के अंदर से मांगी गई 50 लाख की फिरौती / जिम्मेदार कौन जेल प्रशासन , उत्तराखंड सरकार या फिर उत्तराखंड पुलिस  ?????

Advertisement
 ब्यूरो रिपोर्ट exclusive –
कहने को तो उत्तराखंड में क्राइम का ग्राफ कम हो रहा है लेकिन सितारगंज जेल लगातार सुर्खियों में है अभी कुछ समय पहले ही कई आपसी संघर्ष से मौतें हो चुकी है और जेल कर्मचारियों के पैसे मांगने के बाद स्थानीय पुलिस ने जेल के कर्मचारियों पर  मुकदमा भी दर्ज किया  , लेकिन उसके बावजूद भी सरकार और स्थानीय प्रशासन लगातार हो रहे हादसे और क्राइम को रोकने में नाकाम हो रहा है
हल्द्वानी पुलिस ने जय गुरु ज्वेलर्स स्वामी से 50 लाख की रंगदारी मांगने के मामले में खुलासा करते हुए 2 महिलाओं सहित पांच लोगों को गिरफ्तार किया है। जबकि मुख्य अभियुक्त सितारगंज जेल में बंद है, पुलिस जांच में यह भी बड़ा खुलासा हुआ है कि रंगदारी मांगने वाला मुख्य मास्टरमाइंड सितारगंज जेल में बंद था और जेल के अंदर से ही रंगदारी का फोन किया है, लिहाजा जेल की सुरक्षा पर भी सवाल खड़े हुए हैं,
 एसएसपी प्रीति प्रियदर्शिनी ने बताया कि जेल में बंद हत्या के आरोप में सजा काट रहा राहुल राठौर ने 50लाख की फिरौती के लिए फोन किया था और जिस मोबाइल और सिम से फोन किया गया उसे जेल के अंदर ही नष्ट कर दिया गया और जेल तक सिम पहुंचाने में मदद करने वाले 2 महिलाओं सहित पांच लोगों को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है और मुख्य आरोपी को रिमांड में लेने की तैयारी चल रही है, गौरतलब है कि 1 फरवरी को हल्द्वानी के जय गुरु ज्वेलर्स शोरूम की स्वामी रीता खंडेलवाल के पास 50लाख की फिरौती के लिए फोन आया था और फिरौती न देने पर स्वामी और उसके बच्चों को जान से मारने की धमकी दी गई थी।
Spread the love
Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *