Connect with us

उत्तराखंड

श्रीमहंत नरेंद्र गिरि ने अपने बयान में तालिबान का समर्थन करने वालों को देश का गद्दार कहा। तालिबानियों का समर्थन करने वालों के खिलाफ होनी चाहिए कार्रवाई।

Newsupdatebharat Uttarakhand Haridwar Report Jitendra kori
हरिद्वार  – तालिबान के अफगानिस्तान पर कब्जा करने के बाद देश में रहकर तालिबानियों का समर्थन करने वालों के खिलाफ विरोध के स्वर उठने लगे हैं। अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद ने ऐसे लोगों पर कड़ी कार्रवाई की मांग की है। परिषद के अध्यक्ष श्रीमहंत नरेंद्र गिरि ने अपने बयान में तालिबान का समर्थन करने वालों को देश का गद्दार बताया। साथ ही उनके खिलाफ देशद्रोह का मुकदमा दर्ज कर उन्हें तत्काल जेल में डाल देने की बात कही। साथ ही कहा कि ऐसे लोगों को तालिबान के साथ चले जाना चाहिए। इस दौरान उन्होंने शायर मुन्नवर राणा को भी आड़े हाथ लिया।
श्रीमहंत नरेंद्र गिरि ने कहा है कि किस देश को मान्यता देनी है और उसे किस देश के साथ कैसे संबंध रखने हैं, यह काम भारत सरकार का है। न कि मुस्लिम धर्मगुरुओं का। उन्होंने आगे कहा कि भारत सरकार अफगानिस्तान के हालातों पर नजर बनाए हुए है और अपना काम भी कर रही है।
नरेंद्र गिरि ने कहा कि यूपी में योगी सरकार ने आतंकवाद और तालिबानी विचारधारा को रोकने के लिए अच्छा कदम उठाया है, जिन स्थानों पर मुस्लिम आबादी ज्यादा है। वहां 12 स्थानों पर एटीएस का ट्रेनिंग सेंटर खोलने जा रही है। उन्होंने कहा है कि एटीएस आतंकवाद का सिर कुचलने का काम करेगी। उन्होंने ये भी कहा कि देश में कुछ ऐसे भी मुस्लिम धर्मगुरु हैं, जो अपना काम नहीं कर रहे हैं, बल्कि आतंकवादियों का समर्थन और उन्हें पनाह दे रहे हैं।
मशहूर शायर मुनव्वर राणा के तालिबान का समर्थन करने पर प्रतिक्रिया देते हुए महंत नरेंद्र गिरि ने कहा है कि वे लगातार भारत के खिलाफ जहर उगल रहे हैं। ऐसा लग रहा है कि उन्होंने भारतीय संविधान और भारत के लोगों पर भरोसा नहीं रह गया है। मुनव्वर राणा के तालिबान का समर्थन करने पर महंत नरेंद्र गिरि ने उन्हें भारत छोड़कर तालिबानों के साथ चले जाने की नसीहत दी है।
अखाड़ा परिषद अध्यक्ष श्रीमहंत नरेंद्र गिरि ने कहा कि अफगानिस्तान में तालिबानी महिलाओं के साथ जिस तरह का अन्याय और अत्याचार कर रहे हैं। उसको देख कर भारत में रहने वाली मुस्लिम महिलाओं को भी तालिबान का समर्थन करने वाले मुस्लिम धर्म गुरुओं का विरोध और बहिष्कार करना चाहिए। कहा, जहां तक अफगानिस्तान में फंसे भारतीयों को वापस लाने की बात है तो केंद्र सरकार इस दिशा में कदम उठा भी रही है और काफी संख्या में लोगों को वापस भारत लाया भी गया है।
उन्होंने तालिबान का समर्थन करने वाले मुस्लिम धर्म गुरुओं को कड़ी से कड़ी सजा दिए जाने की मांग की है, जिससे दूसरे लोगों को सबक मिल सके। उन्होंने खुली चुनौती देते हुए कहा है आप तालिबान के साथ चले जाइए फिर आपको पता लगेगा कि आपने भारत छोड़कर किस तरह की गलती की है
Continue Reading
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

More in उत्तराखंड

उत्तराखण्ड

उत्तराखण्ड

हल्द्वानी

हल्द्वानी