Connect with us
Advertisement

उत्तराखंड

रिजॉर्ट में हुए सनसनीख़ेज़ हत्याकांड का पुलिस ने किया खुलासा.. बेरहमी से क़त्ल की वजह जानकर हैरान रह जाओगे, एक और हत्या की थी योजना।

कालाढूंगी –  नैनीताल पुलिस ने कालाढूंगी थाने के अंतर्गत स्थित रिज़ॉर्ट में बीती शाम हुए हत्याकांड का 24 घंटे के अंदर खुलासा कर दिया है, मामले में अभियुक्त को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। पूछताछ में अभियुक्त ने हैरान करने वाला खुलासा किया है। अभियुक्त ने 54 वर्षीय व्यक्ति पर ताबड़तोड़ 35 से अधिक वार किए थे।
बुधवार की रात थाना कालाढूंगी में सूचना प्राप्त हुई कि बेलपड़ाव क्षेत्र अंतर्गत बक्सेन्ट रिसोर्ट पवलगढ़ बैलपड़ाव में गिरीश चन्द्र त्रिपाठी, पुत्र दिनेश चन्द्र त्रिपाठी उम्र-54 वर्ष निवासी पवलगढ़ बैलपड़ाव की धारदार हथियार से हत्या कर दी गई है। मिली सूचना पर एस.पी. सिटी हल्द्वानी एवं क्षेत्राधिकारी रामनगर सहित थानाध्यक्ष कालाढूंगी श्री राजवीर सिंह नेगी व चौकी प्रभारी बैलपडाव श्री विरेंद्र बिष्ट के अलावा अधिनस्थ पुलिस बल मौके पर पहुंचकर घटनास्थल का जायजा किया गया।
उपरोक्त सनसनीखेज हत्या की वारदात के अनावरण हेतु पंकज भट्ट,एसएसपी नैनीताल द्वारा अधीनस्थ पुलिस अधिकारी गणों को उपरोक्त हत्याकांड के त्वरित अनावरण हेतु अधीनस्थ पुलिस बल को टीम गठित करने हेतु निर्देशित किया गया।
गठित पुलिस टीम को उक्त हत्याकांड के संबंध में ज्ञात हुआ कि अभियुक्त अमन सैनी को “होटल कर्मी राजेन्द्र डोबाल, सुरेश सनवाल, पुष्कर धामी व मृतक गिरिश चन्द्र त्रिपाठी द्वारा छोटी छोटी बातों को लेकर परेशान करने व लड़ाई झगड़ा करते हुए मारने को आने सम्बन्धी बातों से परेशान करते थे तथा दिनांक 02/08/2022 यानी घटना वाले दिन बुधवार को रिसोर्ट परिसर में राजेन्द्र डोभाल एवं मृतक गिरीश चन्द्र त्रिपाठी द्वारा मोबाइल मांगने के दौरान मोबाइल रिचार्ज को लेकर उक्त दोनो द्वारा स्वयं से पुनः लड़ाई- झगड़ा कर मारने को आने की बातो से क्षुब्ध होकर दोनो व्यक्तियो को जान से मारने का इरादा बनाया गया।
चूंकि राजेन्द्र डोबाल के दुबला-पतला होने के फलस्वरुप पहले मृतक गिरीश चन्द्र त्रिपाठी को मारने का मन बनाकर मृतक गिरीश चंद्र त्रिपाठी को गार्ड रुम से सोने के बहाने ड्राईवर रुम ले जाकर, मृतक के लिए बीडी लाने हेतु बाहर जाना कहकर बक्सेन्ट रिसोर्ट के किचन में जाकर एक स्टील का एवं एक लोहे का चाकू पेट में छुपाकर लाया गया व बीड़ी जलाने के बहाने मृतक के पास गया इसके पश्चात दोनो चाकूओ को तकिये के नीचे छुपाकर रख लिए। मृतक गिरीश चंद्र त्रिपाठी के सोने के 5 मिनट के पश्चात अभियुक्त द्वारा अपने बायें हाथ में तकिया व दाहिने हाथ में चाकू लेकर बाएं हाथ में रखे तकिये से मृतक का मुंह दबाकर दाहिने तरफ करवट में लेटे मृतक के पेट व पीठ पर लगातार कई वार किए गए जिससे मृतक गिरीश चंद त्रिपाठी की मौके पर ही मृत्यु हो गई।
उपरोक्त सनसनीखेज हत्याकांड का खुलासा आज हरवंश सिंह, श्रीमान एस.पी. सिटी हल्द्वानी द्वारा प्रेस वार्ता के माध्यम से किया गया।
पुलिस टीम में
1-थानाध्यक्ष कालाढूंगी राजवीर सिंह नेगी
2-उ0नि0 बीरेन्द्र सिंह बिष्ट (चौकी प्रभारी बैलपड़ाव)
3-उ0नि0 विजय कुमार (चौकी प्रभारी कोटाबाग)
4-उ0नि0 गगनदीप सिंह
5-कानि0 544 नापु0 गगनदीप सिंह
6-कानि0 286 नापु0 नसीम अहमद
7-कानि0 477 वीरेन्द्र रौतेला
8-कानि0 452 नापु0 रविन्द्र सिंह
9—कानि0 226 नापु0 लेखराज सिंह
10-कानि0 466 नापु0 मिथुन कुमार
11-कानि0 368 नापु0 जसवीर सिंह
12- कानि0 413 नापु0 अमरेन्द्र सिंह
नोट– श्रीमान वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक महोदय नैनीताल द्वारा पुलिस टीम के उत्साहवर्धन हेतु 5000/- रुपये नकद धनराशि पारितोषिक हेतु घोषणा की गई है।
Continue Reading
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

More in उत्तराखंड

Trending News

Like Our Facebook Page