हरिद्वार महाकुंभ की व्यवस्थाओं से नाराज है साधु संत मोहन भागवत से जाहिर की नाराजगी

रिर्पोट- राहुल सिंह दरम्वाल   ///

हरिद्वार में हो रहे महाकुंभ में पहुंचे मोहन भागवत से साधु संतों ने मुलाकात के बाद उत्तराखंड सरकार और वहां की व्यवस्थाएं और अधिकारी गण पर व्यवस्थाएं ठीक से नहीं करने की शिकायत की है वही शिकायत के बाद मोहन भागवत ने उत्तराखंड के मुख्यमंत्री से इस विषय में चर्चा कर साधु संतों को विश्वास दिलाया है कि जल्द ही सभी व्यवस्थाओं को सही किया जाएगा ।

दो दिन प्रवास के अंतिम दिन सोमवार को भागवत ने भूपतवाला स्थित काष्णिक आश्रम में वरिष्ठ संतगणों मुलाकात की। सूत्रों की माने को कुंभ की चर्चा शुरु होते ही संत तल्ख हो गए और उत्तराखंड सरकार पर जमकर बरसे। संतों ने यह कहने में कोई कसर बाकि नहीं रखी कि पूर्व मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिहं रावत कुंभ आयोजन के पक्ष में ही नहीं थे। नए मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत के कार्यों की तारीफ करते हुए संतों ने कहा कि वे जो भी आदेश दे रहे है उनके निर्देशों का सही तरीके से पालन नहीं हो रहा है।

व्यवस्थाओं को लेकर संतों ने कहा कि आज भी काम पूरे नहीं हो पाए है। बैरागी संतों की नाराजगी का मामला भी भागवत के समक्ष रखा गया। संतों की बातों को सुनने के बाद भागवत ने उत्तराखंड के मुख्यमंत्री से मामले में बात कर तेजी के साथ व्यवस्थाओं में सुधार का भरोसा दिलाया। उल्लेखनीय है कि बीते रविवार को पूर्व सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत ने हरिद्वार आकर भागवत से मुलाकात की थी।

बैठक में संतों ने मठ मंदिरों के अधिग्रहण को लेकर भी नाराजगी जताई कहा कि भाजपा के शासनकाल में मठ मंदिर अधिग्रहण पर पूरी तरह से रोक लगनी चाहिए। बैठक में बाबा रामदेव, निरंजन पीठाधीश्वर आचार्य महामंडलेश्वर केलाशानंद गिरि, आनंद अखाड़ा के आचार्य महामंडलेश्वर बालकानंद गिरी, श्रीमहंत ज्ञानदेव सिंह, रामभद्राचार्य, गुरु शरण आचार्य, महामंडलेश्वर परमानंद सरस्वती, चिन्मयनंद सरस्वती, श्री महंत रविंद्र पुरी, महामंडलेश्वर हरिचेतनानंद, अखाड़ा परिषद अध्यक्ष श्रीमहंत नरेंद्र गिरी, चिदानंद मुनी आदि शामिल रहे।

कमेटी करे संतों की जांच
संतों ने भागवत से मांग करेत हुए कहा कि आरोप लगाने पर एक कमेटी बने जो संत के आरोपों की जांच करे। कई बार लोग झूठे आरोप लगाकर संत को बदनाम कर देते है।

देवस्थानम बोर्ड भंग करने की मांग
देवभूमि तीर्थ पुरोहित हकहकूकधारी महापंचायत के संयोजक सुरेश सेमवाल के नेतृत्व में सोमवार को पावन कृष्ण धाम में सरसंघचालक मोहन  भागवत से भेंट की। तीर्थ पुरोहितों के प्रतिनिधिमंडल ने देवस्थानम बोर्ड भंग करने से संबंधित एक ज्ञापन भागवत को सौंपा। प्रतिनिधिमंडल में सुरेश सेमवाल, कृतेश्वर उनियाल, उमेश सती, अनुरूद उनियाल व सूरज सेमवाल शामिल रहे।

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *