कोरोना काल में केदारनाथ धाम की आय में आयी भारी गिरावट, पिछले वर्ष हुई थी 22 करोड़ की आय ।

Advertisement

न्यूज़ डेस्क //अपडेट भारत

कोरोना संक्रमण के चलते इस बार केदारनाथ धाम की आय में भारी गिरावट आई है। पिछले साल जहाँ मंदिर को 22 करोड़ से अधिक की आय हुई थी। वहीं इस बार वह महज दो करोड़ पर सिमट गई। यही स्थिति वर्ष 2013 में आयी आपदा के बाद भी हुई थी, यात्रा ठप पड़ जाने के चलते केदारनाथ मंदिर की आर्थिकी पूरी तरह चरमरा गई थी। यहां तक कि मंदिर के अधिकारियों-कर्मचारियों का वेतन निकालना भी मुश्किल हो गया था। ऐसे में बदरीनाथ मंदिर की आय से उन्हें वेतन देना पड़ा।

वहीं आपदा के बाद वर्ष 2016 तक केदारनाथ पहुंचने वाले यात्रियों की संख्या काफी कम रही। इसका भारी असर मंदिर की आय पर भी पड़ा। 2017 की यात्रा के दौरान श्रद्धालुओं की संख्या ने रफ्तार पकड़ी तो मंदिर की आय भी बढ़ने लगी। बीते वर्ष रिकॉर्ड दस लाख 21 यात्री केदारनाथ पहुंचे, जिससे आय भी 22 करोड़ पहुंच गई,

लेकिन इस वर्ष कोरोना संक्रमण के चलते एक बार फिर मंदिर की अर्थव्यवस्था चरमरा गई है।

इस बार 134981 यात्री ही केदारनाथ पहुंचे, जिनसे महज दो करोड़ की आय मंदिर को हुई। उत्तराखंड चारधाम देवस्थानम प्रबंधन बोर्ड के कार्याधिकारी (ऊखीमठ) एनपी जमलोकी बताते हैं कि केदारनाथ मंदिर को होने वाली आय से कर्मचारियों का वेतन, देवस्थानम बोर्ड के अधीन आने वाले अतिथि गृहों की देख-रेख समेत कई अन्य विकास कार्य किए जाते हैं।

वर्तमान में बोर्ड तृतीय केदार तुंगनाथ समेत धाम के शीतकालीन गद्दीस्थल मक्कूमठ में भी यात्रियों के लिए विश्रम गृह का निर्माण करने जा रहा है। साथ ही बोर्ड आयुर्वेदिक व संस्कृत विद्यालयों का संचालन भी करता है। लेकिन, जैसी स्थिति है, उसमें ये सारे कार्य प्रभावित होंगे। यही नहीं, बोर्ड के कर्मचारियों को भी सरकार की मेहरबानी पर निर्भर रहना पड़ सकता है।

Spread the love
Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may have missed