Connect with us

उत्तराखंड

मां के लिए अपशब्द कहने पर दोस्त को खाने में जहर मिलाकर उतारा मौत के घाट।

ऊधमसिंहनगर : पुलिस ने 02 मई को हुई हत्या के मामले में बहुत ही चौंकाने वाला खुलासा किया है, ऊधम सिंह नगर के छतरपुर में किराए के कमरे में मृत मिले खटीमा के युवक की मौत के कारणों के रहस्य से पुलिस ने परदा हटा लिया है। युवक की दाल में सल्फास मिलाकर उसके ही दोस्त ने हत्या की थी। जब पोस्टमार्टम रिपोर्ट में मौत के कारणों की पुष्टि नहीं हुई तो पुलिस ने बिसरा जांच को भेज दिया था।
बिसरा रिपोर्ट में और जांच को भेजी गई दाल की रिपोर्ट में सल्फास मिले होने की पुष्टि के बाद पुलिस ने आरोपित को गिरफ्तार कर लिया। इस दौरान आरोपी दोस्त ने बताया कि मृतक ने उसकी मां को अपशब्द कहे थे, जिसे लेकर उसने उसे जान से मारने की योजना बनाई थी। पुलिस ने आरोपी के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर जेल भेज दिया।
एसएसपी मंजूनाथ टीसी ने बताया कि श्रीपुर बिचवा निवासी 22 वर्षीय पीयूष पुत्र सुनील कुमार अशोका लिलैंड कंपनी में अप्रेंटिस करता था। वह ग्राम छतरपुर में गिरधर सिंह के मकान में रूम पार्टनर कंजाबाग खटीमा निवासी सोनू के साथ रह रहा था।
दो मई 2022 को पीयूष की लाश संदिग्ध हालात में किराए के कमरे में मिली थी। इस दौरान पुलिस ने मृतक के दोस्त सोनू और अभिषेक से भी पूछताछ की लेकिन कुछ पता नहीं चला। बाद में पुलिस ने शव  को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया था। पोस्टमार्टम रिपोर्ट में भी कुछ नहीं आया था।
जब मृतक के दादा राम किशन ने बताया कि दो मई को ग्राम चारूबेटा खटीमा निवासी अभिषेक सिंह राणा मृतक पीयूष के कमरे में ही रुका था और उसकी गतिविधि भी सीसीटीवी कैमरे में संदिग्ध मिली थी। इस पर पुलिस ने अभिषेक को हिरासत में ले लिया।
पूछताछ में अभिषेक ने पीयूष की दाल में सल्फास मिलाकर हत्या की बात कबूल की। उसने बताया कि वह मां के लिए अपमानजनक शब्द बर्दाश्त नहीं कर पाया।
अभिषेक ने बताया कि पीयूष को वह दो-तीन साल से जानता था और उसका उसके घर आना जाना था। पीयूष उसकी मां के बारे में अक्सर अपशब्द कहता था। जो उसे बुरी लगती थी। इसलिए वह पीयूष को ठिकाने लगाने के मकसद से एक मई की शाम छतरपुर आया।
जहां उसने मौका पाकर पीयूष की दाल में सल्फास मिला दिया। जब पीयूष ने उससे खाना खाने के लिए कहा तो उसने भूख न होने का बहाना बनाया और सो गया। बाद में उसने पीयूष की लाश पर कबंल डाल दिया,  इस बात से रूम पार्टनर भी अन्जान थे, जब दो मई की सुबह  पीयूष का रूम पार्टनर सोनू खटीमा से आया तो आरोपी ने दरवाजा खोला। रूम पार्टनर पीयूष को सोता देख वह कंपनी चला गया, जिसके बाद अभिषेक भी वहां से वापस खटीमा चला गया। पुलिस ने अभिषेक के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर जेल भेज दिया है।
पुलिस ने बताया कि बिसरा जांच से इस हत्याकांड का पता चला, वहीं पुलिस ने जानकारी दी कि हत्या के बाद पोस्टमार्टम रिपोर्ट में मौत के कारणों की पुष्टि नहीं हो पाई। जिसके बाद पुलिस ने मृतक के कमरे में तैयार दाल और चावल के सैंपल के साथ ही बिसरा जांच के लिए एफएसएल भेज दिया था।
Continue Reading
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

More in उत्तराखंड

हल्द्वानी

हल्द्वानी

रामनगर

रामनगर

Trending News

Like Our Facebook Page