इस क्षेत्र में अंग्रेज देते थे स्वतंत्रता सेनानियों को फांसी की सजा